ATM Ka Full Form Hindi - एटीएम का फुल फॉर्म क्या है

Share:
ATM Full Form - एटीएम का इस्तेमाल हम हमेसा करते है लेकिन हममे से बहुत लोगो को "एटीएम का फुल फॉर्म क्या है?" ये पता नहीं होता है।

बहुत से दोस्त जो Exam की तैयारी करते है उनको पता होगा ऐसे छोटे सवाल बहुत से Competitive परीक्षा में पूछे जाते है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से एटीएम का फुल फॉर्म हिंदी और इंग्लिश में बतायेगे।

आप यहाँ एटीएम से जुड़े कुछ और फुल फॉर्म जो बहुत से अन्य जगह इस्तमाल किये जाते है उनको भी जान पाएंगे, साथ ही साथ आपको एटीएम के बारे में कुछ दिलचस्प बाते भी बातएंगे।

आप इस आर्टिकल को निचे तक पढ़े जिससे कभी आपसे कोई अगर एटीएम फुल फॉर्म पूछता है तो आप बता सके।



    ATM का फुल फॉर्म क्या है?

    ATM Ka Full Form Hindi - एटीएम का फुल फॉर्म क्या है

    ATM का फुल फॉर्म “Automated teller machine” है जिसे हिंदी में “स्वचालित टेलर मशीन” भी कहते है।

    इसे भी पढ़े: 

    ATM का कुछ अन्य फुल फॉर्म

    ATM Full Form in Chemistry: एटीएम को केमिस्ट्री में "Atmospheric Pressure" कहते है।

    ATM Full Form in Text: अक्सर लोग मैसेज करते समय बहुत से शार्ट फॉर्म का यूज़ करते है जिसमे से लोग ATM का भी यूज़ करते है जिसका फुल फॉर्म "At the Moment" है।

    ATM full form in Aviation Technology: एटीएम को एविएशन में "Air Traffic Management" कहते है।

    ATM Full Form in Computer Networking: एटीएम को कम्प्यूटर नेट्वर्किंग में “Asynchronous Transfer Mode” कहते है।

    ATM क्या है?

    एटीएम एक इलेक्ट्रो-मैकेनिकल मशीन है जिसका इस्तेमाल बैंक खाते से वित्तीय लेनदेन करने के लिए किया जाता है।

    यह बैंकिंग प्रक्रिया को बहुत आसान बनाता है क्योंकि ये स्वचालित टेलर मशीन स्वचालित हैं और लेनदेन के लिए Cashier की कोई आवश्यकता नहीं है।

    जैसे बैंक शाखा में कैशियर, जो नकदी को गिनता है और ग्राहक को सौंपता है, उसी तरह से मशीन आपके लिए करती है। इसलिए, इसे "Automated teller machine" कहा जाता है।

    स्वचालित टेलर मशीन से कार्ड धारक अपने व्यक्तिगत बैंक खाते से बैंक में जाए बिना पैसे निकाल सकता है जो बैंकिंग प्रक्रिया को बहुत आसान बनाता है। यह मशीन ऑटोमेटिक काम करता है जिससे किसी भी करियर की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

    एटीएम मशीन दो प्रकार की हो सकती है:- पहला जिसमे आप पैसे निकाल सकते है दूसरा जहाँ आप पैसे दाल सकते है।

    ATM के पार्ट्स क्या है?

    एटीएम जो बैंकिंग काम को आसन बनता है और मुख्यतः उसमे 2 पार्ट्स होते है:
    • Input Devices
    • Output Devices

    Input Devices: इनपुट में दो प्रकार के डिवाइस यूज़ किये जाते है
    1. Card Reader: यह डिवाइस कार्ड के डेटा को पढ़ता है जो एटीएम कार्ड के पीछे की तरफ चुंबकीय पट्टी (magnetic stripe) में होता है। जब ATM कार्ड स्वाइप किया जाता है तो Card Reader खाता विवरण कैप्चर करता है और इसे सर्वर को भेजता है।
    2. Keypad: यह यूजर को मशीन द्वारा पूछी गई जानकारी मशीन को प्रदान करने में मदद करता है जैसे कि व्यक्तिगत पहचान संख्या, नकदी की मात्रा, रसीद की आवश्यकता या नहीं आदि।

    Output Devices: यूजर को आउटपुट चार प्रकार के डिवाइस यूज़ के द्वारा दिए जाते है
    1. Speaker: यह एक keypad दबाए जाने पर एटीएम में ऑडियो प्रतिक्रिया देने के लिए प्रदान किया जाता है।
    2. Display Screen: यह स्क्रीन पर लेनदेन संबंधी जानकारी प्रदर्शित करता है। यह अनुक्रम में एक-एक करके नकदी निकासी के चरणों को दर्शाता है। यह CRT स्क्रीन या एलसीडी स्क्रीन हो सकती है।
    3. Cash Dispenser: यह एटीएम का मुख्य आउटपुट डिवाइस है क्योंकि यह नकदी वितरित करता है। एटीएम में प्रदान किए गए उच्च परिशुद्धता सेंसर कैश डिस्पेंसर को उपयोगकर्ता द्वारा आवश्यक नकदी की सही मात्रा निकालने की अनुमति देते हैं।
    4. Receipt Printer: यह आपको उस पर मुद्रित लेनदेन के विवरण के साथ एक रसीद प्रदान करता है।

    ATM कैसे काम करता है?

    एटीएम को शुरू करने के लिए, आपको एटीएम मशीनों के अंदर एटीएम कार्ड डालने होंगे।इन एटीएम कार्ड में एक चुंबकीय पट्टी के रूप में आपके खाते का विवरण और अन्य सुरक्षा जानकारी होती है।

    जब आप अपना कार्ड ड्रॉप / स्वैप करते हैं, तो मशीन को आपके खाते की जानकारी मिल जाती है और वह आपका पिन नंबर मांगता है। सफल प्रमाणीकरण के बाद, मशीन वित्तीय लेनदेन की अनुमति देगा।

    ATM का मुख्य कार्य क्या है?

    • नकद और चेक जमा
    • मनी ट्रांसफर
    • नकद निकासी और बैलेंस पूछताछ
    • पिन परिवर्तन और मिनी स्टेटमेंट

    ATM के प्रकार?

    एटीएम के विभिन्न प्रकार उपलब्ध हैं जो निम्नानुसार हैं:
    • White Label ATM - गैर-बैंक संस्थाओं द्वारा संचालित एटीएम।
    • Brown Label ATM - एटीएम जो किसी थर्ड पार्टी द्वारा संचालित किया जाता है।
    • Green Label ATM - एटीएम कृषि लेनदेन के लिए प्रदान किया जाता है।
    • Orange Label ATM - शेयर लेनदेन के लिए प्रदान किया गया।
    • Yellow Label ATM - ई-कॉमर्स के लिए प्रदान किया गया।
    • PINK Label ATM - ऐसे एटीएम का उद्देश्य एटीएम की लंबी कतारों में खड़ी महिलाओं की समस्या को कम करना है।
    • Biometric ATM - वे एटीएम जो बैंक विवरणों को एक्सेस करने के लिए ग्राहक के फिंगरप्रिंट स्कैनर और आई स्कैनर जैसी सुरक्षा सुविधाओं का उपयोग करते हैं

    ATM के बारे में महत्वपूर्ण/दिलचस्प तथ्य

    एटीएम को कई नामों से जाना जाता है जिसमें Automated teller machine (एटीएम) शामिल हैं। कभी-कभी इसे "एटीएम मशीन" भी कहते है।

    कनाडा में, स्वचालित बैंकिंग मशीन (ABM) शब्द का भी उपयोग किया जाता है और इसे अन्य नामों जैसे Any Time Money, Cashline, Bank, Time Machine, Cash Dispenser, Cash Corner, Bankomat, Or Bancomat भी कहते है।

    एटीएम का आविष्कारक: जॉन शेफर्ड बैरोन

    एटीएम पिन नंबर: जॉन शेफर्ड बैरोन ने एटीएम के लिए 6 अंकों का पिन नंबर रखने के बारे में सोचा, लेकिन उनकी पत्नी के लिए 6 अंकों का पिन याद रखना आसान नहीं था, इसलिए उन्होंने 4 अंकों का एटीपी पिन नंबर तैयार करने का फैसला किया।

    दुनिया का पहला floating ATM: State Bank of India (Kerala)

    भारत में पहला ATM: 1987 में HSBC द्वारा स्थापित

    विश्व में पहला ATM: इसे 27 जून 1967 को लंदन के बार्कलेज बैंक में स्थापित किया गया था

    टीएम का उपयोग करने वाला पहला व्यक्ति: प्रसिद्ध कॉमेडी अभिनेता रेग वर्नी

    बिना खाता के ATM: रोमानिया में, जो एक यूरोपीय देश है, कोई भी बैंक खाते के बिना एटीएम से पैसा निकाल सकता है। 

    बायोमेट्रिक एटीएम: ब्राजील में बायोमेट्रिक एटीएम का उपयोग किया जाता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, उपयोगकर्ता को पैसे निकालने से पहले इन एटीएम पर अपनी उंगलियों को स्कैन करना होगा। 

    दुनिया का सबसे ऊंचा एटीएम: यह मुख्य रूप से नाथू-ला में सेना के जवानों के लिए स्थापित किया गया है। यह समुद्र तल से 14,300 फीट ऊपर है और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा संचालित है।

    Conclusion

    मुझे उम्मीद है आपको एटीएम का फुल फॉर्म पता चल गया होगा, साथ ही साथ आपको एटीएम के कुछ अन्य फुल नाम भी पता चला होगा।

    और आपको एटीएम के बारे में कुछ महत्वपूर्ण/दिलचस्प तथ्य की जानकारी मिली होगी। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है।

    No comments